Search
Sunday 23 September 2018
  • :
  • :

Education Center

इंश्योरेंस में डिप्लोमा, सर्टिफिकेट से लेकर डिग्री और मास्टर डिग्री कोर्स तक उपलब्ध हैं। यदि आप बीमा से रिलेटेड कोर्स करने का प्लान कर रहे हैं तो आपका यह निर्णय आपके हित में हो सकता है, क्योंकि नई नई कंपनियों के इंश्योरेंस के क्षेत्र में आने से इसमें भविष्य में करियर की संभावनाएं दिख रही हैं । शहरों के बाद अब ग्रामीण इलाकों में इंश्योरेंस के बढ़ते कदम से इस क्षेत्र में कॅरियर के बनाने के नए रास्ते खुलने लगे हैं | इस कोर्स की अवधि अलग-अलग है । कुछ कॉलेज बीए (इंश्योरेंस) कोर्स ऑफर कर रहे हैं, जिसकी अवधि तीन वर्ष है। वैसे, आप सर्टिफाइड रिस्क ऐंड इंश्योरेंस मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा भी कर सकते हैं । इस कोर्स की अवधि लगभग तीन साल की होती है। अगर आप इंश्योरेंस ऐंड रिस्क मैनेजमेंट में डिप्लोमा करना चाहते हैं, तो यह एक वर्ष के लिए होता है | वैसे, डिस्टेंस लर्निग के माध्यम से भी इंश्योरेंस से जुड़े कोर्स कर सकते हैं । एजेंट बनने के लिए इंश्योरेंस एजेंट का कोर्स भी कर सकते हैं , इसकी अवधि 100-150 घंटे की होती है । आप अपना करियर एजेंट के रूप में भी शुरू कर सकते हैं, इंश्योरेंस एजेंट के रूप में सेलेक्ट होने के बाद आपको सम्बंधित इंश्योरेंस कम्पनी में 100 घंटे की ट्रेनिंग दी जाती है, ट्रेनिंग पूरी होने के बाद IRDA द्वारा आयोजित परीक्षा पास करनी पड़ती है, पास होने के बाद आप एजंट के रूप में अपना काम शुरू कर सकते हैं | यदि आपकी कम्यूनिकेषन स्किल्स अच्छी हैं तो बीमा सेक्टर में स्कोप की कहीं कमी नहीं है ।

बीमा से जुड़े कोर्सेज के लिए योग्यताएँ |
बीए-इंश्योरेंस में एडमिशन लेने के लिए 12वीं पास होना चाहिए और इंश्योरेंस मैनेजमेंट में डिप्लोमा के लिए स्नातक होना जरूरी है | इसमें आप मास्टर डिग्री भी कर सकते हैं |

बीम सेक्टर से जुड़े प्रमुख संस्थान
यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली, दिल्ली
बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी, वाराणसी
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़
बिरला इंस्टीटयूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली
कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी, कुरुक्षेत्र
आईआईटी, मुम्बई

http://educationcenter.co.in